शेयर मार्केट Best Knowledge-2024

pukkinaksh@gmail.com
8 Min Read
शेयर मार्केट Best Knowledge-2024

शेयर मार्केट एक वित्तीय बाजार है जहां विभिन्न कंपनियों के हिस्सेदारों (शेयरधारकों) के बीच हिस्सा खरीदने और बेचने का व्यापार होता है। इसे इकोनॉमी का एक महत्वपूर्ण हिस्सा माना जाता है, क्योंकि यह विभिन्न उद्यमों और निवेशकों को साकारात्मक रूप से प्रभावित करने में मदद करता है।

शेयर मार्केट में कंपनियों के हिस्सेदारों के बीच विभिन्न वित्तीय सौदे होते हैं, जिसमें शेयर्स (हिस्सेदारी के प्रति अधिकार) को खरीदा और बेचा जाता है। इस प्रकार का निवेश उद्यमों को अपनी पूंजी बढ़ाने और निवेशकों को निवेश का उत्तरदाता बनाने में मदद कर सकता है।

शेयर मार्केट दो भागों में विभाजित हो सकता है:

शेयर मार्केट Best Knowledge-2024
शेयर मार्केट Best Knowledge-2024

प्राथमिक बाजार (Essential Market): इसमें कंपनियाँ नए शेयरों को पहली बार बाजार में लाती हैं ताकि वे अपनी पूंजी बढ़ा सकें। यह शेयरों के Initial public offerings (Introductory Public Contributions) के माध्यम से होता है, जिसमें निवेशक नए शेयर खरीद सकते हैं।

माध्यमिक बाजार (Optional Market): इसमें पहले से बाजार में मौजूद शेयरों का खरीद-बिक्री होती है। यहां निवेशक एक दूसरे से शेयरों को खरीद सकते हैं या उन्हें बेच सकते हैं। यह बाजार वित्तीय समाचार, गतिविधियों, और आर्थिक घटनाओं का एक प्रमुख स्रोत होता है।

शेयर मार्केट का उद्दीपन निवेशकों के लिए है क्योंकि वहां निवेश करने से उन्हें नुकसान और लाभ का सामना करना पड़ता है। इसमें विचारशील निवेश के लिए विभिन्न वित्तीय उपाय और स्ट्रैटेजीज का अध्ययन करना महत्वपूर्ण है।

शेयर मार्केट की शुरुआत कब हुई ?

शेयर मार्केट की शुरुआत की गई थी जब कंपनियों ने अपने हिस्सेदारों को आम लोगों के साथ शेयर करने का प्रणाम दिया था। पहला शेयर मार्केट अम्स्टर्डम, नीदरलैंड्स, में 1602 में स्थापित हुआ था। इसे “आदिकालीन बुर्स” या “आदिकालीन बाजार” कहा जाता है और यह एक इतिहासी बाजार था जहां विभिन्न कंपनियों के लिए हिस्से बांटे जाते थे।

ब्रिटेन में बॉल्स के बाजार (Bourse) और जॉन कैस (John Casta) द्वारा संचालित हुआ था, जो कि अनुमानतः 1693 में शुरू हुआ था। फ्रांस में 18वीं सदी में विभिन्न बाजारों की स्थापना हुई थी, जो लियोन, बोरडो, और टुलूज़ में स्थित थे।

भारत में पहला शेयर बाजार 1850 में मुंबई (बॉम्बे) में स्थापित हुआ था, जिसे “बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज” (Bombay Stock Trade, BSE) कहा जाता है। इसके बाद, नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (NSE) ने इंडियन शेयर मार्केट को और बढ़ावा देने के लिए 1992 में स्थापित किया गया।

क्या Share Market से आमिर बनना आसान है ?

शेयर मार्केट Best Knowledge-2024
Share Market Best Knowledge-2024

शेयर मार्केट से अमीर बनना एक निवेशक की सफलता, विचारशीलता, और वित्तीय समझ के उपर निर्भर करता है। यह किसी भी व्यक्ति के लिए अनिश्चित होता है और बाजार में हमेशा रिस्क होता है।

कई लोग शेयर मार्केट में सफलता प्राप्त करके अमीर बन गए हैं, जबकि कई लोगों को नुकसान भी हुआ है। शेयर मार्केट में निवेश करने का सफलता आधार वित्तीय ज्ञान, विशेषज्ञता, रिस्क प्रबंधन, और अनुभव पर है।

कुछ निवेशक बड़े पूंजीवादी बनते हैं, जो विभिन्न शेयरों और वित्तीय उपकरणों के माध्यम से अपनी पूंजी को बढ़ाते हैं। हालांकि, इसमें सफलता प्राप्त करने के लिए बहुत ही समर्थ और विचारशील निवेशक की आवश्यकता है।

यह भी ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि बाजार में निवेश करने के साथ ही हर निवेशक का अनुभव अलग होता है और बाजार में हमेशा विनम्र रहना चाहिए, क्योंकि बाजार में प्रतिस्थापन और उतार-चढ़ाव होता रहता है।

शेयर मार्केट के फायदे एवं नुकसान :-

Share Market के फायदे:

उद्यमों का पूंजीगत संचार: शेयर मार्केट के माध्यम से कंपनियाँ नए पूंजी का संचार कर सकती हैं, जिससे उन्हें विकास के लिए अधिक संभावनाएं मिलती हैं।

निवेशकों के लिए नए विकल्प: निवेशकों को विभिन्न उद्यमों में निवेश करने का एक बड़ा स्रोत मिलता है, जिससे उन्हें विभिन्न साधना विकल्पों का चयन करने का अवसर मिलता है।

अधिक लाभ: यदि आपने सही समय पर सही शेयरों में निवेश किया है, तो आपको अधिक लाभ हो सकता है।

अच्छी लिक्विडिटी: शेयर मार्केट में शेयरों की अच्छी लिक्विडिटी होती है, जिससे निवेशकों को अपने निवेश को जल्दी और आसानी से विकसित करने में मदद मिलती है।

Share Market के नुकसान:

निवेश का जोखिम: शेयर मार्केट में निवेश करना जोखिमपूर्ण हो सकता है, और अगर बाजार में उतार-चढ़ाव होता है, तो निवेशकों को नुकसान हो सकता है।

बाजार की अस्थिरता: शेयर मार्केट में अस्थिरता हो सकती है, और बाजार में अनियमितता आने पर निवेशकों को स्थिरता की कमी महसूस हो सकती है।

मार्जिन कॉल्स और लॉसेस: निवेशकों को मार्जिन कॉल्स की स्थिति से गुजरना पड़ सकता है, जिससे उन्हें अपने पोजीशन को बराबरी में रखने के लिए अधिक पूंजी जुटानी पड़ती है।

बाजार की समझदारी की आवश्यकता: शेयर मार्केट को समझने के लिए विशेषज्ञता और अनुभव की आवश्यकता होती है, और बिना इसे समझे निवेश करना नुकसानकारी हो सकता है।

इसलिए, शेयर मार्केट में निवेश करने से पहले निवेशकों को अच्छे से अध्ययन करना और विशेषज्ञ सलाह लेना अत्यंत महत्वपूर्ण है।

शेयर मार्केट से बने सफल इंसान :-

शेयर मार्केट Best Knowledge-2024
Share Market Best Knowledge-2024

किसी व्यक्ति के धनी बनने का सीधा संबंध शेयर मार्केट से नहीं होता है, बल्कि यह व्यक्ति के निवेश रणनीति, फिनैंशियल सूचना, वित्तीय समझ, और उच्च स्तर की विशेषज्ञता पर निर्भर करता है। शेयर मार्केट में सफल निवेशकी दुनिया में कई उदाहरण हैं, लेकिन इनकी सफलता निवेश की समझ, विचारशीलता, और तात्कालिक बाजार में किए गए निवेशों पर निर्भर करती है।

कुछ प्रमुख उदाहरण इस प्रकार हो सकते हैं, लेकिन कृपया ध्यान दें कि इनका उदाहरण देना यह मतलब नहीं कि इससे आपका निवेश सफल होगा या हो सकता है:

वॉरेन बफेट: यह एक ऐसा नाम है जिसे बहुत से लोग शेयर मार्केट के जगत में जानते हैं। वह बर्खास्तगी और दैनिकता के साथ निवेश करने के लिए मशहूर हैं और उनका वित्तीय सफलता का सफर दुनिया भर में जाना जाता है।

रायल्टी इन्वेस्टमेंट्स कॉर्पोरेशन (RIL) के मुकेश अंबानी: भारतीय उद्यमी और रिलायंस इंडस्ट्रीज के मालिक मुकेश अंबानी ने भी अपने निवेशों और उद्यमिता के माध्यम से धनी बना है।

जॉर्ज सोरोस: यह हंगेरी-अमेरिकी वित्तीय उद्यमी और निवेशक है, जिन्होंने हमेशा अपने विवेकशील निवेशों के लिए प्रसिद्ध हैं।

इन उदाहरणों से सिखना चाहिए कि शेयर मार्केट में सफलता प्राप्त करने के लिए विचारशीलता, समर्थन और सुधार की योजना की आवश्यकता है। हर निवेशक का प्रोफ़ाइल अनुकरणीय और उनके निवेश समझ और लक्ष्यों के अनुसार होता है।

 

Share This Article
Leave a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *